spot_img
11.1 C
New Delhi
Saturday, January 29, 2022
spot_img

रिटायर हुआ बारूदी सुरंगों का एक्सपर्ट चूहा, मिल चुका है सर्वोत्‍तम नागरिक का पुरस्‍कार

spot_imgspot_img
Indradev shukla

नई दिल्ली, साधना मिश्रा: अब तक आपने ने स्निनफर डॉग (sniffer dog) यानी किसी चीज को सूंघ कर चोर या कातिल का पता लगाने वाले डॉग के बहुत से बहादुरी के किस्से सुने होगे। लेकिन क्या आपने कभी किसी चूहे की बहादुरी के बारें में सुना है। जी हां आपने बिल्कुल सही सुना हम बात कर रहे है, अफ्रीकी नस्ल के एक चूहे की जिसे हजारों लोगों की जान बचाने के लिए जाना जाता है। इस चूहे की बहादुरी के किस्से दूर-दूर तक मशहूर है।

बारूदी सुरंगों का पता लगाने कि लिए किया गया प्रशिक्षित
इस मशहूर चूहे का नाम ‘मगावा’ (magawa) है जिसकी उम्र 7 साल है। इसे बे‍ल्जियम के एक एनजीओ एपीओपीओ (APOPO) ने लैंड माइंस यानी जमीन के अंदर छिपे बंब को खोजने के लिए प्रशिक्षित किया है। बता दें कि इस चूहे को उस समय प्रशिक्षित किया गया, जब कंबोडिया में गृहयुध्द छिड़ा हुआ था। उस दौरान वहां के जंगलो में हजारों की संख्या में बारूदी सुरंगे बिछाई गई थी। उस बारूदी सुरंगों का पता लगाने का काम मगावा ने बड़ी ही जिम्मेदारी के साथ किया।

Indradev shukla

rat

यह भी पढ़े… उत्तर प्रदेश के रिटायर्ड IAS ऑफिसर अनूप चंद्र पांडे देश के नए चुनाव आयुक्त नियुक्त

71 लैंड माइन और 28 जिंदा विस्फोटकों का लगाया पता
गौरतलब है कि मगावा ने अपनी 5 साल की सर्विस के दौरान 71 लैंड माइन (land mine) और 28 जिंदा विस्फोटकों का पता लगाकर हजारों लोगों की जान बचा चुका है। बता दें कि द गार्डियन में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक इस छोटे से चूहे ने अपने सूंघने की क्षमता का उपयोग करके 1.4 लाख स्‍कवायर मीटर यानी कि 20 फुटबॉल पिच जितनी जमीन को सुरंग मुक्‍त बनाने में मदद की है। वहीं एपीओपीओ संगठन का कहना है कि वैसे तो इस काम के लिए दूसरे चूहों को भी प्रशिक्षित किया जा सकता था लेकिन अफ्रीकन चूहों का आकार उन्‍हें इस काम के लिए परफेक्‍ट बनाता है।

rat

यह भी पढ़े… सिरसा गुरु ग्रंथ साहिब से माफी मांगें, नही तो संगत के विरोध का करना पड़ेगा सामना: सरना

ब्रिटिश चैरिटी का टॉप सिविलियन का मिला अवॉर्ड
मालूम हो कि मगावा को अपनी बहादुरी के लिए पिछले साल ब्रिटिश चैरिटी का टॉप सिविलियन अवॉर्ड (British Charity’s Top Civilian Award) भी मिल चुका है। हालांकि 5 साल की सर्विस में कई कामों को अंजाम देने के बाद अब मगावा रिटायर हो रहा है। वही मगावा के हैंडलर मालेन का कहना है, ‘मगावा का प्रदर्शन काफी शानदार रहा है। मुझे उसके साथ काम करने में बहुत गर्व महसूस होता है क्‍योंकि इतना छोटा होने के बाद भी उसने कई लोगों की जान बचाने में मदद की है। उसकी सेहत अब भी अच्‍छी है लेकिन अब उसके रिटायर होने का समय आ गया है। हालांकि उसकी कमी को पूरा करना आसान नहीं है, लेकिन चैरिटी ने कुछ नए रंगरूटों को भर्ती किया है।’

spot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

epaper

spot_img

Latest Articles

spot_img