35 C
New Delhi
Sunday, May 22, 2022

दिल्ली में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली जड़ी-बूटी के पौधे लगाए जाएंगे

—दिल्ली सरकार 33 लाख पौधे लगाएगी, पर्यावरण दिवस पर होगी शुरूआत
– दिल्ली में पीएम-10 को नियंत्रित करने के लिए सड़क के किनारे छोटे पौधे लगाए जाएंगे
– पौधारोपण अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लें, दिल्लीवालों से अपील

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : केजरीवाल सरकार आगामी पांच जून से दिल्ली में वृहद वृक्षारोपण अभियान की शुरूआत करेगी। इसकी घोषणा करते हुए दिल्ली के पर्यावरण एवं वन मंत्री गोपाल राय ने कहा कि इस दौरान लोगों को प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली जड़ी-बूटी के पौधे लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। केंद्र सरकार ने इस साल 18 लाख का लक्ष्य दिया है, लेकिन दिल्ली सरकार ने प्राप्त लक्ष्य से ज्यादा 33 लाख पौधे लगाने का निर्णय लिया है। वन विभाग की तरफ से दिल्ली के अंदर हमने पिछले साल प्रतिरोधक तंत्र बढ़ाने वाली जड़ी-बूटियों के पौधों को लगाने का अभियान शुरू किया था। जिसमें कढ़ी पत्ता, आंवला, बेहरा, जामुन, अमरूद, अर्जुन सहजन, बेल पत्ता, निबू, तुलसी, एलोवेरा, गिलोय के पौधे लगाए गए। दिल्ली के अंदर जो सरकारी नर्सरी हैं, वहां से यह पौधे निःशुल्क दिए जाते हैं। 5 जून से इस साल भी हम इसकी शुरुआत करने जा रहे हैं।

यह भी पढें…पढ़ाई के बोझ से परेशान 6 साल की मासूम, वीडियो बनाकर पीएम मोदी से लगाई गुहार

5 जून को कोरोना से लड़ने वाली प्रतिरोधक जड़ी बूटियों का रोपण करेंगे।उन्होंने कहा कि इस कोरोना काल में जिसका प्रतिरोधक तंत्र ठीक है, वह इसकी लड़ाई को लड़ कर जीत रहा है और जिसका कमजोर है, वह इस लड़ाई को हार जा रहा है। दिल्ली निवासियों से अपील है कि सभी लोग पौधारोपण अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लें, ताकि हम अपनी प्रतिरोधक क्षमता को प्राकृतिक तरीके से बढ़ा सकें। उन्होंने कहा कि 2017 में दिल्ली का ग्रीन क्षेत्र 299 वर्ग किमी था, जिसे केजरीवाल सरकार ने बढ़ाकर 2019 में 325 वर्ग किमी कर दिया है। हमें उम्मीद है कि इस साल का अभियान पूरा होने के बाद दिल्ली का ग्रीन क्षेत्र बढ़कर 350 वर्ग किमी हो जाएगा। दिल्ली के पर्यावरण एवं वन मंत्री गोपाल राय ने आज दिल्ली में पौधारोपण को लेकर एक महत्वपूर्ण प्रेस काॅन्फ्रेंस की।

यह भी पढें…CBSE बोर्ड की 12वीं की परीक्षाएं कोरोना के चलते कैंसिल, 16 लाख विद्यार्थियों को बड़ी राहत

उन्होंने कहा कि दिल्ली के अंदर इस कोरोना संकट के दौरान जिस तरह से ऑक्सीजन का संकट सामने आया, उसके लिए सरकार के स्तर पर तमाम प्रयास किए गए और उसमें सफलता भी मिली। आज कोरोना के केस लगातार कम होते जा रहे हैं, लेकिन ऑक्सीजन के स्थाई समाधान की तरफ बढ़ने के लिए एक ही रास्ता है कि बड़े पैमाने पर दिल्ली के अंदर वृक्षारोपण किया जाए। 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस है। दिल्ली सरकार ने यह निर्णय लिया है कि 5 जून से दिल्ली के अंदर अगले साल का वृक्षारोपण अभियान शुरू किया जाएगा। अगले 1 वर्ष में सरकार ने दिल्ली में 33 लाख पौधे लगाने का निर्णय लिया है, जिसमें बड़े पेड़ों के साथ-साथ, दिल्ली में जो प्रदूषण की समस्या है, उसमें पीएम-10 की एक अहम भूमिका होती है, जो खासतौर से सड़क के किनारे धूल से पैदा होता है। इसके लिए सड़क के किनारे भी छोटे पौधे लगाए जाएंगे, जिससे कि पीएम-10 को भी नियंत्रित किया जा सके।

यह भी पढें…बड़ी बहन सुरभि की मांग में डाला सिंदूर और छोटी बहन से हुई शादी

गोपाल राय ने कहा कि हर साल केंद्र सरकार सभी राज्यों को वृक्षारोपण का लक्ष्य देती है। पिछली बार केंद्र सरकार ने दिल्ली को 15 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य दिया था। जिसमें सीएम अरविंद केजरीवाल के वादे के अनुसार जो हमने दिल्ली के लोगों से चुनाव के समय 10 महत्वपूर्ण गारंटी दी थी, उसमें दिल्ली के पर्यावरण को ठीक करने के लिए दो करोड़ पौधे लगाने का 5 साल में लक्ष्य रखा था। उस लक्ष्य को देखते हुए हमने केंद्र सरकार के दिए हुए 15 लाख के लक्ष्य से दोगना लक्ष्य रखा था। हमने पिछले साल 31 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य रखा था। हमें इस बात की खुशी है कि अपने लक्ष्य से ज्यादा 32 लाख पौधे पिछले एक साल में दिल्ली के अंदर लगाए गए हैं। इस बार केंद्र सरकार ने दिल्ली के लिए करीब 18 लाख वृक्षारोपण का दिया था।

Related Articles

epaper

Latest Articles